इनपुट और आउटपुट डिवाइस क्या है | what is input and output devices

what is input and output devices| इनपुट और आउटपुट डिवाइस क्या है ?

Input  Device और output Device को जानने से पहले हमे ये जानना होगा की आखिर कंप्यूटर काम कैसे करता है और क्यों  जरूरत पड़ती है इन दोनों  डिवाइसिस  की , कंप्यूटर में डाटा   इनपुट करने के लिए और कंप्यूटर से डाटा    आउटपुट लेने की लिए हमें इन दोनों डिवाइसिस की जरूरत पड़ती है |

हमें जब कंप्यूटर को कुछ भी निर्देश देना हो या  डाटा को input  करना हो  तब हम इनपुट डिवाइसिस का उपयोग करते है और फिर CPU यानि प्रोसेस्सर उस निर्देश या  डाटा को प्रोसेस करता है और हमे output Devices  की मदद से रिजल्ट देता है | 

input डिवाइस को हम इस चित्र  से समझने  की कोशिस  करते है 



इनपुट और आउटपुट डिवाइस क्या है ? | what is input and output devices in hindi

इस चित्र में पहला जो डिवाइस है keyboard  जो की एक  इनपुट Device है | इसका उपयोग हम  डाटा को input करने के लिए करते है  और वो डाटा CPU में process होने  के लिए  जाता है process होने के बाद वो डाटा    output डिवाइस में जाता  है और हमें result प्रदर्शित करता है | 

what is  Input Device ? | इनपुट डिवाइस कया है 

जब हमें computer के memory में किसी प्रकार के data को process करने के लिए भेजना होता है तो उसे हम input Device की मदद से भेजते  है | अलग अलग प्रकार के डाटा को input करने के लिए हम अलग अलग input Devices का प्रयोग करते है | 

जैसे:- Text डाटा को इनपुट करने के लिए keyboard  का उपयोग किया जाता  है | Object को  लिए Scanner का, sound के लिए Mice व GUI (Graphical user interface ) operating system में Data को  इनपुट करने के लिए Mouse का उपयोग किया जाता है | 

मुख्य रूप से उपयोग  होने वाले input Devices निम्न है |


1. Keyboard:-

                                    keyboard  क्या है ? 

कीबोर्ड एक standard  इनपुट डिवाइस है| जिसके उपयोग कर  डाटा इनपुट किया जाता है | इसमें टाइप करने के लिए कई  key (बटन) दिए  होते है जिनमे से कुछ पर एक अक्षर (character)  होते है और कुछ पर दो अक्षर होते है |
keyboard


 जैसे :- अंग्रेजी के 26  वर्णमाला (alphabats) , 0 से 9 तक के अंक गणित के +,-,%,= आदि इसमें कई विशेष (special ) keys  भी होते है  | Dell (Delete ) की  ये भी एक special key है इसे slected शब्दों को delete करने के लिए उपयोग किया जाता है 
  
  प्रत्येक key के निचे एक electronic switch होता है जिन्हे  दबाने पर इलेक्ट्रिक प्लस पैदा होते है जो  कंप्यूटर के द्वारा समझा जाता है | 


 2 . Mouse :-

                                           Mouse क्या है ?


 keyboard के बाद इस इनपुट डिवाइस  का उपयोग सबसे अधिक किया जाता है क्यों की वर्तमान समय में GUI operating system    जैसे   की   windows /Linux  आदि का उपयोग बहुत अधिक स्तर पर किया जा रहा है और जिसमे  अधिकतर Command  (निर्देश ) mouse के द्वारा ही दिए जाते है
mouse


यह  प्लास्टिक के चूहे के आकार  का होता है इसलिए इसे  Mouse कहा  जाता है |  mouse में दो बटन होते है एक राइट में और लेफ्ट में और बिच में एक scroll weel होता है जो की पेज को ऊपर निचे करने के काम आता है | 

Mouse के तीन प्रकार होते है 

a ) Mechanical mouse 
b ) Optical Mouse  
 c ) Optomechanical 

3. Scanner 
                                    Scanner क्या है ?

 कभी -कभी documents हमें डिजिटल रुप में चाहिए होती है Documents को डिजिटल रूप में इनपुट करने में  स्कैनर हमारी मद्दद करती है | स्कैनर एक इनपुट डिवाइस है जो  इमेज  या documents को scann करके उसे Digital रूप में कन्वर्ट करता है  
scanner


Scanner दो प्रकार के होते है  
1 ) Flatbed scanner 
2 ) Sheet-Fed 
  Flatbed scanner सबसे प्रसिद्ध scanner है इसके द्वारा photograph ,BOOk,Magazin आदि को स्कैन किया जा सकता है जबकि Sheet-Fed से Book,Magazin आदि को scann  किया जा सकता | 

4) Audio input 

                                 Audio Input Device क्या है ?

इस प्रकार के input Device के लिए एक Microphone की आवश्यकता होती है जिसे CPU के पीछे Socket से जोड़ दिया जाता है इस microphone पर बोल कर कुछ commands को दिया जा सकता है | इसका उपयोग ऐसी जगह पर किया जाता है जहा एक या दो सब्द बोलकर ही काम चलाया जा सके |

जैसे :- शूटिंग के समय केवल कट, कैमरा, लाइट्स,साउंड,एक्शन शब्दों का प्रयोग के बाद कई खास  मशीने अपना काम करना शुरू कर देती है इस प्रकार की टेक्नोलॉजी में कैमरा शब्द  बोल कर इस ध्वनि को रिकॉर्ड कर लिया जाता है और ध्वनि को बाईनेरी संकेतो में बदल कर कम्प्यूटर के मेमोरी में स्टोर कर लिया जाता है|   



what is output device  | आउटपुट डिवाइस क्या है   

output device वो डिवाइस होती है जो इनपुट डिवाइस के कोड के  रूप में  दिए गए निर्देशों को मनुष्य के समझने योग्य  भाषा में परिणाम के रूप में दर्शाती है या उन्हें  कागज पे प्रिंट कर देती है | 

कंप्यूटर में उपयोग की  जाने वाली कुछ प्रमुख आउटपुट डिवाइस निम्नलिखित है|  

1)  Monitor
                                        Monitor क्या है ? 



Monitor

इसे कंप्यूटर का मुख्य standard output device कहा जाता है इसे VDU (visual/video Display unit) भी कहते है | यह डिवाइस output को  character या Pixel  के रूप में दिखता है | 

यह pixels को image के रूप में दिखता है जो dots के रूप में होता है |  इन डॉट्स को pixels कहते है |

 इन पिक्सेल के आधार पर मॉनिटर को कई प्रकारो में बाटा  जा सकता है | जिनको  CGA,CCA,VGA  और SVGA के नाम से जाना जाता है |  

Types of Monitor / मॉनिटर के प्रकार :-

a)  CRT Monitor 
CRT मॉनिटर एक television के प्रकार का मॉनिटर है इसका पूरा नाम cathode ray tube मॉनिटर है क्योकि इसमें vacume tube का उपयोग किया जाता है जिसे प्रतिबिंब बनती है इसमें तीन रंग  RGB (red, green , blue ) के electron beam को screen पर अलग -अलग अनुपात में focus किया जाता है जिसे अलग - अलग रंग प्राप्त होती है | LCD के आजाने से अब CRT monitors प्रचलन से बाहर हो गए है | 

b) LCD Monitor 

LCD फ्लैट स्क्रीन monitor होता है क्योकि इसके display  में liquid crystal का उपयोग होता है इसलिए इसे LCD (Liquid crystal Display )  कहा जाता है ,इस शब्द से इसके कार्य करने की तकनीक का भी पता चलता है अर्थात यह ग्राफ़िक्स को प्रदर्शन करने के लिए स्क्रीन पर liquid फ्लो करता है | LCD Monitor अभी प्रचलन में है और ये मॉनिटर सबसे अधिक उपयोग किया जाता है | 

 c ) Plasma Monitor  

इस मॉनिटर को LCD  का नया  रूप भी कह सकते है | Plasma मॉनिटर की display quality काफी अच्छी है क्योकि LCD की तुलना में इसे बनाने  में  अलग व अच्छी तकनीक का उपयोग किया जाता है ,plasma मॉनिटर LCD की तुलना में अधिक बड़े होते है plasma मॉनिटर 42 से 63 inch तक बड़ी होती है  

2) Printer


                                     Printer क्या है ?
screen पर दिख रहे DATA को पेपर पर छापने के लिए इस output device का उपयोग किया जाता है | कंप्यूटर से प्राप्त Binary code को soft copy से Hard copy में  printer मानव के पढ़ने योग्य भाषा जैसे  हिंदी,अंग्रेजी या अन्य भाषा  में प्रिंट कर सकता है | 


printer

प्रिंटर के मुख्य दो प्रकार होते है 
 1) Impact printer 
इस प्रकार के प्रिंटर बहुत ज्यादा शोर मचाते है क्यों की ये पेपर पर प्रिंट करने के लिए पेपर को impact करता है मतलब की पेपर को टककर   मरता है character  को print करने के लिए |  | 

टाइप राइटर  भी एक Impact printer और आपने किसी  ना किसी टाइपिंग सेण्टर में जरूर देखा होगा की typewriter कितना ज्यादा शोरे करते है 
Impact printer के मुख्य दो प्रकार होते है 
a )Character printer 
character printer एक बार में सिर्फ एक ही एक ही character को प्रिंट करता है | 
character प्रिंटर के दो प्रकार होते है | 
  • Daisy wheel printer 
  • Drum printer 
b) Line printer 

line printer एक बार में एक line तक प्रिंट कर सकता है | इस प्रिंटर के अंतर्गत DOT Matrix प्रिंटर आता है |

 इस प्रिंटर में प्रिंट हेड्स लगे होते है जिसमे pins  एक matrix में लगे होते है और इसी pins के द्वारा छपाई    करने  के लिए लगे Ribbon पर ठोकर मारा जाता है इसी प्रकार अनेक dot मिलकर एक character या graph बनाते है | 

 2) Non - Impact printer 
ये printer कार्य करते समय बिलकुल भी शोर नहीं करते है | वर्तमान में इस प्रकार के प्रिंटर का बहुत अधिक उपयोग किया जाता है| 

Non impact printer के मुख्य तीन प्रकार होते है | 
a) laser printer 
यह Non Impact पेज प्रिंट है | वर्तमान में इस computer का प्रयोग बहुत अधिक किया जाता है | 

इस प्रिंटर में प्रिंट करने के लिए Photocopy (xerox) मशीन में प्रयोग किये जाने वाले तकनीक Xerography का उपयोग किआ जाता है |

 इसमें एक टोनर पाउडर का प्रयोग किया जाता है जिसे पेपर पर छिड़का जाता है और प्रिंट किये जाने वाले स्थान पर laser -punz डाला जाता है जिससे पेपर निर्धारित स्थान पर चीपक जाता है और पेपर पर आउटपुट को प्रिंट किया जाता है | 

b) Inkjet printer 
यह Non - impact printer है इसमें प्रिंट के लिए cartridge का उपयोग किया जाता है, जिसमे स्याही भरी होती है इस cartridge के निचे Nozzel  की बौछार काफी बारीक होती है इसलिए इस प्रिंटर का output अधिक स्पष्ट होता है | 

c) Thermal printer 
  Thermal printer एक Non - impact printer है  |  इस प्रिंटर का उपयोग Reciept बनाने के लिए इस्तेमाल  किया जाता है इस प्रिंटर का उपयोग  ATM में भी किया जाता  है |

क्यों की इस प्रिंटर में किसी प्रकार की न तो Ink डाली जाती और न ही किसी तरह का पाउडर | 

 इस प्रिंटर में पेपर को हीट करके प्रिंट किया जाता है इस लिए इस प्रिंटर के द्वारा दिया गया Output कुछ समय बाद खुद ही मिट जाता है | 

3) Speaker

                                        Speaker क्या है ?
यह सामान्य रूप  से उपयोग किये जाने वाला Output device है | इस device को हम न सिर्फ कंप्यूटर के साथ use कर सकते है बल्कि अन्य Devices के साथ बी Use  कर सकते है  जैसे :

 Mobile ,laptop ,Amplify,Mp3/Mp4 player जैसे devices के साथ भी use कर सकते है | यह Electromagnetic waves को sound wavesमें बदलकर स्पीकर को भेजता है |

 वर्तमान में USB power supply वाले speaker  बाजार में उपलब्ध है जिसका लाभ यह है की इन्हे power अलग से देना नहीं पड़ता और नहीं अलग से electric  power socket की आवश्यकता होती है |

 वर्तमान में sound के output के लिए हमें किसी भी प्रकार के wire को भी plug इन नहीं करना पड़ता है हम speaker को सीधे Bluetooth से ही कनेक्ट कर सकते है | 

conclusion 

इस पोस्ट में आपने जाना 
input device एंड output device क्या है ?
types of input devices and outputdevices
मैं आशा करता हु की ये पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी और आपके लिए मददगार साबित हुई होगी | आपको हमारा ये पोस्ट कैसा लगा कमेंट में जरूर बताये | 
                                                        **धन्यवाद **
  






















   

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां